लॉकडाउन रिटर्न 2022: इस महीने में आखिरी तक रोज मिलेंगे 10 लाख केस, जानिए इस बारे में क्या कहतें हैं एक्सपर्ट्स

कोरोना जैसी घातक महामारी ने जब से इस दुनिया में कदम रखा है तब से आम ज़िंदगी तहस-नहस हो गयी है.  चाहे वो व्यापर की बात हो या शिक्षा, हर चीज़ में बदलाव आये हैं, अभी कोरोना की पहली दूसरी लहर से निजात पायी ही थी  की अब इसका नया वेरिएंट दस्तक दे गया जिसका नाम हैं ‘ओमीक्रॉन’ अब कोरोना का नया वेरिएंट फिर दहशत फैलाने आ गया है. जिसको देखते हुए सरकार ने पाबंदिया लगाना भी शुरू कर दिया है. 

वहीं कहा जा रहा है कि यह महामारी यानि कि इस नए वेरिएंट कि दहशत मार्च तक खत्म हो जाएगी. ऐसा कई एक्सपर्ट्स  का भी कहना है. इस नए वेरिएंट ओमीक्रॉन का पीक पॉइंट आएगा जिसमे हर रोज़ 30 से 50 हजार केस आएंगे. यह पीक पॉइंट इस महीने के अंत तक आएगा ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है. क्योंकि कोरोना कि दूसरी लहर के दौरान भी कुछ ऐसा ही मामला समझ आया था.

Covid 19 Latest News 2022

ओमीक्रॉन पीक पर रहेगा तो भारत में हर रोज़ 4 से 8 लाख मामले देखने मिलेंगे. इसका हल सिर्फ एक है अगर सरकार द्वारा इसको प्राथमिकता दी जाये और सख्त लॉक डाउन लगाया जाये तो इस पर काबू पाया जा सकता है. इससे आम जनता भी परेशान नहीं होगी सब स्वस्थ और सुरक्षित रह पायंगे. साथ ही स्वास्थ विभाग पर इसपर ज्यादा असर नहीं पड़ेगा वह आराम से इस मुसीबत का सामना कर जनता को बेहतर सुविधा उपलब्ध करवा सकती है.

कोरोना महामारी में आये इस नए वेरिएंट ओमीक्रॉन पर स्टडी कर रहे IISC और ISI (भारतीय विज्ञान संस्थान और भारतीय सांख्यिकी संस्थान)  के एक्सपर्ट्स और शोधकर्ताओं का कहना है कि ओमीक्रॉन का प्रभाव जनवरी में बढ़ेगा इतना ही नहीं फरवरी के अंत तक इसका असर रहेगा, इस दौरान हर दिन 10 लाख तक नए मामले मिलेंगे ऐसा शोधकर्ताओं का मानना है. फिर इसका असर धीरे धीरे मार्च तक खत्म हो जायेगा. 

लॉकडाउन रिटर्न 2022: इस महीने में आखिरी तक रोज मिलेंगे 10 लाख केस, जानिए इस बारे में क्या कहतें हैं एक्सपर्ट्स

चलिए अब जानते है ओमीक्रॉन कि दस्तक से किन राज्यों ने उठाये हैं कड़े कदम

  • मध्य प्रदेश – मास्क नहीं पहनने पर 200 रुपये का जुर्माना.
  • दिल्ली- वीकेंड कर्फ्यू, 50 फीसदी  क्षमता के साथ ही खुलेंगे निजी कार्यालय.
  • पंजाब – नाइट कर्फ्यू, स्कूल-कालेज बंद रहेंगे.
  • बिहार – 6 से 21 तक नाइट कर्फ्यू, रात आठ बजे तक ही खुलेंगी दुकानें.
  • छत्तीसगढ़ – ज्यादा संक्रमित जिलों में नाइट कर्फ्यू.
  • महाराष्ट्र- मास्क नहीं पहनने वालों पर 500 रुपये का जुर्माना.

जानिए क्या कहती हैं IIT कानपुर स्टडी

भारत में इस लहर की पीक कब आएगी इसे लेकर IIT कानपुर ने भी एक स्टडी की है.  कानपुर IIT के प्रोफेसर डॉक्टर मनिंद्र अग्रवाल ने कहा है कि स्टडी के अनुसार जनवरी के आखिरी समय या फिर फरवरी के शुरुआत में ओमीक्रॉन का पीक हो सकता है. इस दौरान 4 से 8 लाख केस रोज आएंगे. 

ज्यादातर मामलों में नहीं दिखेंगे लक्षण, क्या इस बात में है ​सच्चाई?

डॉ क्रिस्टोफर मुर्रे ने अपने अध्ययन के आधार पर कहा कि 85.02 प्रतिशत संक्रमण के मामले में तो लक्षण दिखेगा ही नहीं. लेकिन इनमें से कुछ लोगों को अस्पताल जाने की नौबत आ सकती है. उन्होंने कहा कि डेल्टा वेव जब आया था तो इस दौरान भारत में जितने लोगों को अस्पताल जाने की नौबत आई थी उसका एक चौथाई हिस्सा ही इस बार हॉस्पिटल में एडमिट होंगे साथ ही मौत का अकड़ा भी कम आ सकता है.  

DRDO HomepageClick Here

Leave a Comment

Your email address will not be published.